Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
बदलापुर में मिला नवजात बच्चा

बच्चे का छिल गया था बदन, खा रहीं थीं चींटियां

सरपत के झुरमुट में रखा था बच्चा

11 सितंबर 2022, रविवार, जौनपुर, उत्तरप्रदेश।

जौनपुर के बदलापुर थाना क्षेत्र में एक नवजात बच्चा मिला। बच्चे को सरपत के झुरमुट पर कोई छोड़ गया था। उसे चीटियां लग गई थी और नौकीले सरपट पर छोड़ने से कई जगह से खरोंच भी। ग्रामीणों ने बच्चे को देख पुलिस को सूचित किया। फिलहाल वह जिला अस्पताल में एडमिट है।

Newborn found in badlapur badlapur me Mila navjat shishu3779-2

यहां मिला नवजात

पालोना को घटना की जानकारी जौनपुर चाइल्ड लाइन के समन्वयक श्री राजकुमार पांडे से मिली। उन्होंने और उनकी टीम की शालिनी जी ने पूरी घटना की जानकारी दी। इसके मुताबिक, रविवार को अपराह्न चार बजे बदलापुर कस्बे के बरौली गांव के कुछ लोगों को नवजात के रोने की सुनाई दी। ये आवाज संत भंगड़दास कुटी के पास से आ रही थी।

ढूंढने पर वहीं पास में सरपत के झुरमुट में एक नवजात बच्चा (लड़का) मिला।

Newborn found in badlapur badlapur me Mila navjat बच्चा 3779-2

बच्चे को खा रही थीं चींटियां

शालिनी ने बताया कि बच्चा जिन्हें मिला था, उन्होंने ही उसकी गर्भनाल काटी और धागा बांधा था। उसे काफी चींटियों ने काट लिया था। इसके अलावा सरपट में रखने की वजह से उसके कोमल शरीर को कई स्थान पर खरोंचें भी आई हैं।

सवा चार बजे के आसपास चाइल्ड लाइन को स्थानीय थाने ने सूचना दे दी थी। इसके बाद टीम घटनास्थल पर पहुंची। तब तक पुलिस ने नवजात को स्वास्थ्य केंद्र बदलापुर पहुंचा दिया था। टीम में श्री सुभाष चंद्र यादव, सुश्री शालिनी मौर्य, श्री अनिरुद्ध कुमार, श्री पंकज शामिल थे।

वहां से बच्चे को लाकर टीम ने जिला अस्पताल में भर्ती करवा दिया है। बच्चे का वजन करीब 1900 ग्राम है। और अब वह तेजी से रिकवर कर रहा है। फिलहाल बच्चा खतरे से बाहर है। इससे पहले भी जौनपुर में नवजात बच्चे मिलते रहे हैं।

बदलापुर में मिला नवजात बच्चा

ये भी पढ़ें

जिंदगी की आस में अपनी मौत से लड़ती रही चित्रकूट में मिली नवजात बच्ची

पालोना का पक्ष

पालोना का मानना है कि बाल संरक्षण से जुड़े अधिकारियों को सरकार की सेफ सरेंडर पॉलिसी पर जन जागरूकता अभियान शुरू करने चाहिए। इसके लिए पेंफ्लेट्स, बैनर्स, फ्लेक्स आदि की मदद लेनी चाहिए। हाट बाजार और मेले भी इस जागरूकता का अहम केंद्र हो सकते हैं।

इसके साथ साथ पुलिस को केस दर्ज कर दोषियों तक पहुंचने के लिए प्रयास करने चाहिए।

 

 

PaaLoNaa News, Uncategorized, UP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Make a Donation
Paybal button
Become A volunteer