Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
NAVJAT BACHCHI KE SHAV RANCHI ME MILA
नवजात बच्ची का शव रांची के तुपुदाना में मिला

बच्ची के शरीर पर नहीं था कोई कपड़ा, पुलिस ने शुरू की जांच 

पालोना की अपील- बच्चों की मृत्यु के बाद पानी में न बहाएं 

28 जुलाई 2022, गुरुवार, रांची, झारखंड।

 

Newborn baby girl found dead in Ranchi 

गुरुवार सुबह रांची में एक नवजात बच्ची का शव मिला। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया है। साथ ही मामले को आईपीसी 318 में दर्ज किया जाएगा।

पालोना को ये सूचना गुरुवार सुबह चाइल्ड राइट एक्टिविस्ट और पूर्व सीडब्ल्यूसी सदस्य श्री बैजनाथ से मिली। उन्होंने बताया कि हटिया स्वर्णरेखा पुल के नीचे पानी में एक नवजात बच्ची का शव बरामद हुआ है। यह मामला जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र का है।

सूचना मिलने के बाद जब उक्त थाने में संपर्क किया गया तो मालूम हुआ कि जिस जगह घटना घटी है, वह जगन्नाथपुर और तुपुदाना थाना क्षेत्र का बॉर्डर इलाका है। लेकिन इस मामले की सभी कार्रवाई तुपुदाना थाने से हो रही है।

ये भी पढ़ें- वो नवजात शिशु अगर टॉयलेट पैन में अटका न होता तो….

NAVJAT BACHCHI KE SHAV RANCHI ME MILAक्या कहा तुपुदाना थाने की पुलिस ने

हमें सुबह पीसीआर 16 से घटना की जानकारी मिली थी। हमारी टीम ने घटनास्थल पर जाकर शव को अपनी सुपुर्दगी में ले कर पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया है। ऐसा लगता है कि बच्ची को जन्म के तुरंत बाद वहां डाला गया है। जब बच्ची मिली, इसके शरीर पर कपड़े की एक कतरन भी नहीं थी। इस मामले को आईपीसी 318 में दर्ज किया जाएगा।

– सब इंस्पेक्टर मीरा सिंह, तुपुदाना थाना प्रभारी, रांची, झारखंड।

 

A newborn baby was found dead near a pond in Garhwa.

हत्या या स्वाभाविक मौत

रांची में नवजात बच्ची का शव मिलने का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी यहां बच्चों के शव मिलते रहे हैं। जून माह में भी 2 नवजातों के शव राजधानी रांची में मिले थे। यह केस बच्ची की स्वाभाविक मौत से जुड़ा है या उसकी हत्या से, यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा। लेकिन किसी भी कारण से बच्चों का इस स्थिति में मिलना दुखद है और सभ्य समाज के मुंह पर तमाचा भी।

पानी में न बहाएं बच्चों कोपालोना

हमारे देश में मृत्यु के बाद बच्चों को जलाया नहीं जाता, वरन उन्हें या तो दफना दिया जाता है या पानी में बहा दिया जाता है। पालोना पिछले काफी समय से यह मांग कर रहा है कि मृत्यु के बाद बच्चों को पानी में बहाना बंद किया जाए, क्योंकि इसका फायदा वे लोग उठा रहे हैं, जो नवजात शिशु की हत्या करके उन्हें  पानी में बहा देते हैं और इसे स्वाभाविक मौत का रूप देने की कोशिश करते हैं।

Jharkhand, PaaLoNaa News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Make a Donation
Paybal button
Become A volunteer