Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal
ये जीते जागते बच्चे हैं, रबर के गुड्डे-गुड़िया नहीं, जिन्हें कहीं भी उठाकर डाल दो

बच्चे को पीएमसीएच ने नहीं किया एडमिट, पुलिस ने नहीं दर्ज की एफआईआर

आमजन को सेफ सरेंडर पॉलिसी, जिले में लगे क्रेडल्स और एडॉप्शन प्रोसेस पर अधिकारी करें जागरुक

06 जुलाई 2022, बुधवार, छपरा, बिहार।

मोनिका आर्य

उस नवजात शिशु का मलद्वार नहीं था। उसे जन्म देते ही नहर के किनारे छोड़ दिया गया था। गर्भनाल अभी तक उस के शरीर पर जुड़ी हुई थी। भला हो ललन राम जी का, जिन्होंने बच्चे को वहां देखा और तत्काल उसे उठा लिया। लेकिन उनसे एक चूक हो गयी। वे उस मासूम को निकटवर्ती अस्पताल ले जाने की बजाय अपने घर ले गए।

मौजूदा घटना है बिहार राज्य के छपरा जिले की। यहां परसा ब्लॉक की सगुनी पंचायत के श्रीरामपुर गांव में बुधवार सुबह एक नवजात शिशु (लड़का) मिला। पालोना को घटना की जानकारी पटना के चाईल्ड राइट एक्टिविस्ट श्री संतोष कुमार से मिली। उन्होंने ग्रामीणों से मिली सूचना का हवाला देते हुए पालोना के बिहार-झारखंड ग्रुप में लिखा था कि बच्चा सुबह पांच बजे श्रीरामपुर में मिला है। उसका मलद्वार नहीं होने की वजह से उसके परिजनों ने उसे त्याग दिया है और वह सदर अस्पताल में भर्ती है।

Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal

बच्चे को देने को तैयार नहीं थे ललन जी

चाईल्डलाइन छपरा के काउंसलर श्री विकास मिश्रा ने बताया कि बच्चे को ललन राम जी से लेने में चाइल्डलाइन सारण कोलैब को काफी दिक्कतें आईं। वह शिशु को देने के लिए तैयार नहीं थे। यहां तक कि बच्चे को मैडिकल केयर भी नहीं मिली थी। किसी को बुलाकर गर्भनाल जरूर कटवाई गई थी।

Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal

पीएमसीएच ने एडमिट करने से किया इनकार

ललन राम जी को किसी तरह समझाबुझा कर बच्चे को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाने को कहा गया। वहां प्राथमिक चिकित्सा दिलवाने के बाद बुधवार को ही रात 09 बजे के करीब बच्चे को सारण के सदर अस्पताल में एडमिट करवा दिया गया। सदर अस्पताल के डॉक्टर्स की सलाह पर बच्चे को अगले दिन पटना के पीएमसीएच में ले जाया गया। मगर अफसोस, कि वहां जगह न होने का दावा करते हुए बच्चे को एडमिट करने से इनकार कर दिया गया।

Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal

बिगड़ती जा रही थी बच्चे की स्थिति

उधर, मलद्वार नहीं होने की वजह से बच्चे का पेट फूलता जा रहा था। उसकी स्थिति क्रिटिकल बन रही थी। चाइल्डलाइन के अधिकारियों को समझ नहीं आ रहा था कि क्या करें। तब वे अस्पताल के अधिकारियों से मिले और बच्चे की वास्तविक स्थिति से उन्हें अवगत करवाया। अधिकारियों की सलाह पर बच्चे को तत्काल पटना के ही आईजीआईएमएस ले जाया गया।

Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal

इसमें पटना के चाईल्ड राइट एक्टिविस्ट शअरी संतोष कुमार (पालोना को भी इन्हीं से सूचना मिली थी) और डॉ. निधि का महत्वपूर्ण योगदान रहा। उन दोनों के सहयोग से 08 जुलाई, शुक्रवार को बच्चे का ऑपरेशन सफलतापूर्वक हो गया। फिलहाल शिशु वहीं इलाजरत है।

Chhapra News ye jite jagte bachche hain rubber ke gudde gudia nahin newborn baby Boy Found abandoned near canal

पुलिस ने नहीं दर्ज की एफआईआर

विकास जी ने पालोना को बताया कि इसमें सनहा दर्ज की गई है। ये त्रासद है कि बिहार उन कुछ राज्यों में शुमार है, जहां नवजात शिशुओं के साथ हो रही इस क्रूरता को उनकी हत्या के प्रयास के रूप में नहीं देखा जाता और न ही तदनुसार कोई कानूनी कार्रवाई होती है। यही वजह है कि लोगों में कानून का डर नहीं होता और वे बेखौफ होकर नवजात शिशुओं के जीवन से खेलते रहते हैं, मानो ये जीते जागते बच्चे न होकर रबर के  कोई गुड्डे- गु़ड़िया हों।

पालोना का पक्ष

पालोना ने छपरा की चाईल्ड वैलफेयर कमेटी के चैयरपर्सन श्री रणविजय सिंह, एडसीपी श्री धर्मवीर सिंह से बात की और उनसे आग्रह किया कि वे इस मामले में एफआईआर दर्ज करने के लिए पुलिस को निर्देश दें। उन्हें ये भी बताया गया कि यह मामला IPC 317 के साथ साथ JJACT के सेक्शन 75 के तहत दर्ज होना चाहिए पालोना एफआईआर दर्ज करने के लिए हर तरह के सहयोग हेतु तैयार है।

पालोना उम्मीद करता है कि जल्द ही बिहार राज्य में ये स्थिति सुधरेगी। पुलिस शिशु हत्या के इन प्रयासों को लेकर गंभीर होगी। वहीं, बाल संरक्षण से जुड़े अधिकारी सरकार की सेफ सरेंडर पॉलिसी के साथ-साथ जिले में लगे पालनों और एडॉप्शन प्रोसेस पर जनता को जागरुक करेंगे।

ये भी पढ़ें-

पति- पत्नी के बीच झगड़े में छह माह के बेटे को जान देकर चुकानी पड़ी कीमत

 

 

Bihar, PaaLoNaa News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Make a Donation
Paybal button
Become A volunteer